हृदय रोग:लहसुन,अदरक,नींबू में सेव का सिरका मिलाकर बनाएं ‘हृदयामृत’

हृदयामृत हार्ट ब्लॉकेज का आयुर्वेदिक उपचार हैं .

0
175

आज की पोस्ट में हम आपसे चर्चा करने जा रहे है ‘हृदयामृत’ की ,हृदयामृत के बारे में कहा जा रहा है कि बढ़ते कॉलेस्ट्रॉल और रक्त के थक्के जमने से बंद नाड़ियों को खोलकर सुचारू करता है। हृदयामृत के बारे में काफी सुना था कि Heart Blockage के लिए आयुर्वेदिक दवाई है और घर पे भी बनाई जा सकती है।

हृदयामृत का सेवन करने वाले कुछ मरीजों को मैं व्यक्तिगत जानता हूँ,उन्होंने जोधपुर से ये दवाई मंगवाई थी,दवाई के साथ ही उन्हें हृदयामृत घर पे बनाने का नुस्खा भी साथ मे दे दिया जाता है।

आइये जानते है हृदयामृत कैसे बनती है और किस तरह इसको लेना है?

” हृदयामृत “-Clear Heart Blockage Naturally With Hridyamrit.

अपने भारतीय आयुर्वेद के ज्ञान की पुष्टि करते हुए बड़े डाक्टरों ने यह माना है कि लहसुन, अदरक, सिरका और शहद का योग हृदय रोग में बहुत ही अचूक औषधि है, ये कैंसर और जोड़ों का दर्द भी ठीक कर सकता है.

आज संसार के प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों ने आश्चर्यजनक अध्ययन करके यह सिद्ध किया है कि चमत्कारी घरेलू नुस्खा, जिसकी एक दिन की लागत बहुत कम होती है, हर तरह की बीमारियों के लिए आरामदायक है.

इस इलाज से बंद नाड़ियों, जोड़ों का दर्द, उच्च रक्तचाप ( हाई ब्लड प्रैशर), कैंसर की कुछ किस्मों, कॉलेस्ट्रॉल की अधिक मात्रा, सर्दी ज़ुकाम, बदहज़मी, सिर दर्द, दिल के रोग, रक्त प्रवाह की समस्या, बवासीर, बांझपन, नपुसंकता, दांत दर्द, मोटापा, अल्सर और बहुत सारी बीमारियाँ ठीक करने में सहायता मिलती है.

हृदय की बन्द नाड़ियों को खोलने और बड़ी बिमारियों के लिए तो बहुत ही लाभदायक हैं.

हृदय की बंद नाड़ियों को खोलने के लिए (heart blockage treatment ayurveda)
सामग्री :
नींबू का रस – 1 कप
अदरक का रस – 1 कप
लहसुन का रस – 1 कप
सेब का सिरका – 1 कप

उपरोक्त सभी वस्तुओं को मिला कर आधा घंटा आग पर उबालें. जब तीन कप तक रह जाए, तब इस मिश्रण को ठण्डा होने दो. ठण्डा होने पर इसमें तीन कप शहद मिला दें और एक कांच की बोतल में डाल दें.

हर रोज़ नाश्ते से आधा या एक घंटा पहले एक चम्मच लगातार लेने से बंद नाड़ियाँ धीरे धीरे खुल जाएंगी. इसमें किसी भी एंजीओग्राफी या बाईपास की ज़रूरत नहीं है.

प्रकृति की यह एक अदभुत चिकित्सा मोटापे को दूर करती है. कैंसर, दमा तथा अनेकों अन्य बीमारियों का यह एक चमत्कारी और सस्ता इलाज है.

जोड़ों के दर्द के रोगियों पर किए गये एक अध्ययन से पता चला है कि रोज़ाना सिरका और शहद की एक खुराक लेने से जोड़ों के दर्द 90 प्रतिशत तक कम हो जाते हैं.

हृदयामृत कंहा मिलता है?

हृदय के लिए अमृत ये योग आप अपने घर पर भी तैयार कर सकते हैं. अगर आप चाहे तो जोधपुर में भी जालोरी गेट दूध के चौहटे के सामने अरोड़ा कॉलेज के पास एक दुकान ” जय श्याम री ” पर भी उपलब्ध रहता है.

अगर आपको हृदयामृत की ये जानकारी treatment for heart blockage in hindi उपयोगी लगे तो इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ शेयर जरूर करें .

Leave a Reply